कारपोरेट नागरिकता

पुनर्स्थापन एवं पुनर्वास

अपने आरंभ से ही एनटीपीसी एक प्रतिबद्ध तथा सामाजिक रूप से उत्तरदायी संगठन रहा है तथा इसने परियोजना प्रभावित व्यक्तियों (पीएपी) के कल्याण के लिए विशिष्ट मार्गदिशानिर्देश निरूपित किए हैं। यह पीएपी के मुद्दे का निवारण करने के लिए व्यापक पुनर्वास तथा पुनरुद्वार नीति का निरूपित करने वाली कारपोरेट क्षेत्र की पहली कंपनियों में से एक है। अपने सामाजिक उद्देश्य के अनुरूप कंपनी ने पीएपी के प्रभावी पुनर्वास तथा पुनरुद्वार (आर एंड आर) पर संकेन्द्रण किया है तथा परियोजनाओं में तथा इनके आसपास समुदाय विकास निर्माण कार्यों में भी संकेन्द्रण किया है।

  • एनटीपीसी ने “1980 में ‘भूमि निष्कासितों को दी जाने वाली सुविधाओं संबंधी नीति.
    का निरूपण किया है। एनटीपीसी की प्रथम पीढी की परियोजनाओं को इस नीति के अनुसार सुविधाएं प्रदान की गई।  Read more...
     
  • एनटीपीसी द्वारा मई 1993 में एक व्यापक आर एंड आर नीति निरूपित की गई जिसे भारत सरकार द्वारा भी अनुमोदित किया गया तथा विश्व  बैंक   एनटीपीसी आर एंड आर नीति 1993 का निरूपण भी किया गया।परियोजनाओं की सूची जहां आर एंड आर पर इस नीति के अनुसार ध्यान दिया गया है  Read more...
     
  • आर एंड आर के क्षेत्र में सीखी गई बातों, एनटीपीसी द्वारा क्रियान्वित अच्छी पद्धतियों, भावी कार्य नीतियों तथा पुनर्वास एवं पुनरुद्वार संबंधी भारत सरकार की राष्ट्रीय नीति (एमपीआरआर) 2003 के साथ संरेखन के आधार पर एनटीपीसी ने अपनी आर एंड आर नीति को जून, 2005 में संशोधित करके   एनटीपीसी आर एंड आर नीति 2005 निरूपित की। परियोजनाओं की सूची जहां आर एंड आर पर इस नीति के अनुसार ध्यान दिया गया है  Read more...
     
  • अपनी संभावी हरित क्षेत्र/विस्तार परियोजनाओं के अन्वेषणात्मक चरण पर सामाजिक मुद्दों का निवारण करने के लिए तथा कंपनी की सकारात्माक छवि के निर्माण द्वारा ऐसी परियोजनाओं से जुडी स्थानीय जनता का विश्वास जीतने के लिए एनटीपीसी अपनी   आरंभिक समुदाय विकास (आईसीसडी) नीति 2009’ के अनुरूप कार्य आरंभ करके क्षेत्र में प्रविष्ट  होता है। इसके तुरंत पश्चात भूमि तथा जल प्रतिबद्धताएं परियोजना की स्थापना के लिए संबंधित राज्य सरकारों से प्राप्ती होती है। उन परियोजनाओं की सूची जहां आईसीडी योजना निरूपित की गई है Read more...
  • भारत सरकार की राष्ट्रीय पुनर्वास तथा पुनरुद्वार नीति 2007(एनआरआरपी-07) की उद्घोषणा के मद्देनजर, अपनी सीखी हुई बातों के प्रतिधारण तथा आर एंड आर मुद्दों के निवारण हेतु सुसंरचित प्रक्रम द्वारा एवं एनआरआरपी-07 के प्रावधानों के साथ संरेखण द्वारा एनटीपीसी ने अपनी आर एंड आर नीति 03.06.2010 को संशोधित कर दी है।

एनटीपीसी अपनी आर एंड आर नीति के अनुसार आर एंड आर मुद्दों का निवारण इस उद्देश्य  के साथ करता है कि एक युक्तिसंगत संक्रमण अवधि के पश्चात, प्रभावित परिवारों में सुधार हो सके अथवा वे कम से कम अपने पूर्व जीवन स्तर, अर्जन क्षमता तथा उत्पादन स्तरों को हासिल कर सके। नीति के अनुसार, एक ब्यौरेवार सामाजिक-आर्थिक सर्वेक्षण (एसईएस) का संचालन एक व्यावसायिक अभिकरण द्वारा किया जाता है ताकि संभावी परियोजना प्रभावित व्यक्तियों (पीएपी) का एक आधार रेखा डाटा तैयार किया जा सके। इसके पश्चात ग्राम विकास परामर्शी समिति (वीडीएसी) जिसमें पीएपी, ग्राम पंचायतों, एनटीपीसी तथा जिला प्रशासन के प्रतिनिधि शामिल होते हैं, में पधारकों के साथ पर्याप्त परामर्श के पश्चात ‘पुनर्स्थापन एवं पुनर्वास  योजना’ (आर एंड आर योजना) का निरूपण किया जाता है। आर एंड आर योजना  में पुनर्वास, पुनरुद्वार तथा समुदाय विकास मुद्दों के लिए उपाय शामिल होते हैं।

आर एंड आर क्रियान्वयन के दौरान पारदर्शिता का अनुरक्षण करने के लिए ‘जन सूचना केंद्र (पीआईसी) की स्थापना आर एंड आर संबंधित सूचना का प्रसार करने तथा शिकायत निवारण के लिए की जाती है। समाज शास्त्रियों  की नियुक्ति परियोजना प्रभावित व्यक्तियों (पीएपी) के साथ व्यापक अंत:क्रिया हासिल करने के लिए की जाती है।

आर एंड आर योजना की पूर्ति पर एक ‘सामाजिक प्रभाव मूल्यांकन (एसआईई)’ का संचालन एक व्यावसायिक अभिकरण के माध्यम से भावी अधिगम हेतु आरएपी क्रियान्वयन की प्रभावात्मकता का मूल्यांकन करने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त, आर एंड आर योजना के पूर्ण होने के पश्चा्त, आवश्यकता आधारित समुदाय विकास क्रियाकलापों का किया जाना एनटीपीसी के कारपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व समुदाय विकास नीति (सीएसआर-सीडी) नीति के तहत परियोजना के आसपास के क्षेत्रों में किया जाना जारी है।

भारत सरकार की आर एंड आर नीति की उद्घोषणा के पश्चात, यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि भारत सरकार की नीति के प्रावधानों का अनुपालन परियोजनाओं में आर एंड आर मुद्दों का निवारण करते समय किया जाए।

राज्य सरकार की आर एंड आर नीति, राज्य विशिष्टय तथा सरकारी नीतिगत निर्देश, जिनमें पर्यावरण एवं वन मंत्रालय की शर्तें शामिल है, परियोजना विशिष्ट‍ पुनर्स्थापन एवं पुनर्वास योजना (आर एंड आर योजना) का निरूपण करते समय विचार में लिए जाते हैं।

एलए एवं आर एंड आर मुद्दों का निवारण करते समय, एनटीपीसी ने निम्न पहलें की हैं :

  • एक समर्पित भूमि अधिग्रहण (एलए) समूह का सृजन कारपोरेट आर एंड आर तथा क्षेत्रीय मुख्यालयों में किया गया है।
  • आईसीडी क्रियाकलापों के भाग के रूप में इसके नबीनगर, उत्तरी कर्णपुरा तथा पकड़ी बरवाडीह परियोजनाओं में मोबाइल स्वास्य्मे  क्लिनिक आरंभ किए गए हैं।
  • 7 परियोजनाओं में हरित क्षेत्र आईटीआई स्थापित किए जा रहे हैं।  Read more....

भूमि अधिग्रहण (एलए) तथा आर एंड आर को शामिल करने वाली जारी परियोजनाओं की सूची :

पूर्वी क्षेत्र-I
  बाढ़-I एवं II, बिहार एलए चल रहा है, आरएपी निरूपित
पूर्वी क्षेत्र-II   
  बोंगाईगांव I, असम  कोई अतिरिक्त् भूमि अर्जन नहीं किया गया है। तथापि, सीडी योजना निरूपित की जा रही है।
राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र  
  दादरी-II, उत्तर प्रदेश भूमि अर्जित सीडी योजना निरूपित
उत्तरी क्षेत्र     
  रिहंद-III, उत्तर प्रदेश कोई निजी भूमि अर्जित नहीं की जा रही।
ड. दक्षिणी क्षेत्र
  सिम्हाद्रि-II,  आंध्र प्रदेश कोई निजी भूमि अर्जित नहीं की जा रही तथा, सीडी योजना निरूपित
  सीपत-I,  छत्तीसगढ़ भूमि अधिगृहीत। आरएपी निरूपित तथा क्रियान्वि्त
  विंध्याचल-IV,  मध्य् प्रदेश एलए चल रहा है, आर एंड आर योजना को निरूपित किया जाना है।
 
पश्चिम क्षेत्र
  कोरबा-III,  छत्तीसगढ़ एलए चल रहा है, आर एंड आर योजना को निरूपित किया जाना है।
  मौदा-I,  महाराष्ट्र भूमि अधिगृहीत। आरएपी निरूपित
संयुक्त उद्यम
  झज्जर-I,  हरियाणा भूमि अधिगृहीत। सीडी योजना निरूपित की जानी है।
  मुज्जफरपुर विस्तार बिहार एलए चल रहा है, आर एंड आर योजना को निरूपित किया जाना है।
  नबीनगर, बिहार एलए चल रहा है, आर एंड आर योजना को निरूपित किया जाना है।
  वेल्लूर-I चरण-I एवं II, तमिलनाडु भूमि अधिगृहीत। सीडी योजना निरूपित की जानी है।
जल विद्युत क्षेत्र
  कोल डैम, हिमाचल प्रदेश भूमि अधिगृहीत। आरएपी निरूपित
  लोहारीनाग-पाला भूमि अधिगृहीत। सीडी योजना निरूपित
  तपोवन –विष्णुगड, उत्तराखंड भूमि अधिगृहीत। सीडी योजना निरूपित
कोयला खनन तथा कोयला वाशरी
  पकड़ी बरवाडीह, झारखंड    एलए चल रहा है, आरएपी निरूपित
  छट्टी बरयातु, झारखंड एलए चल रहा है, आरएपी निरूपित
  केरांदरी, झारखंड एलए चल रहा है, आरएपी निरूपित
  तलाईपली, छत्तीसगढ़ एलए चल रहा है, आर एंड आर योजना को निरूपित किया जाना है
  दुलंगा, उड़ीसा एलए चल रहा है, आर एंड आर योजना को निरूपित किया जाना है